Ad Unit

ईश्वर कण-कण में व्याप्त है, पर हम उसे क्यों नहीं देख पाते ?

ईश्वर कण-कण में व्याप्त है, पर हम उसे क्यों नहीं देख पाते ?

The answer is :

ईश्वर कण-कण में व्याप्त है और कण-कण ही ईश्वर है। ईश्वर की चेतना से ही यह संसार दिखाई देता है। चारों ओर ईश्वरीय चेतना के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है, लेकिन यह सब कुछ हम इन भौतिक आँखों से नहीं देख सकते। जब तक ईश्वर की कृपा से हमें दिव्य चक्षु (आँखें) नहीं मिलते, तब तक. हम कण-कण में ईश्वर के वास को नहीं देख सकते हैं और न ही अनुभव कर सकते हैं।

Related Posts

Post a Comment