'कस्तूरी कुंडलि बसै, मृग ढूँढे बन माँहि' भाव स्पष्ट कीजिए।

'कस्तूरी कुंडलि बसै, मृग ढूँढे बन माँहि' भाव स्पष्ट कीजिए।

The answer is :

इस पंक्ति का भाव है कि भगवान हमारे शरीर के अंदर ही वास करते हैं। जैसे हिरण की नाभि में कस्तूरी होती है, परवह उसकी खुशबू से प्रभावित होकर उसे चारों ओर ढूँढ़ता फिरता है। ठीक उसी प्रकार से मनुष्य ईश्वर को विभिन्न स्थलों पर तथा अनेक धार्मिक क्रियाओं द्वारा प्राप्त करने का प्रयास करता है, किंतु ईश्वर तीर्थों, जंगलों आदि में भटकने से नहीं मिलते। वे तो अपने अंतःकरण में झाँकने से ही मिलते हैं।

Related Posts

Post a comment