'जब मैं था तब हरि नहीं, अब हरि हैं मैं नाँहि' भाव स्पष्ट कीजिए।

'जब मैं था तब हरि नहीं, अब हरि हैं मैं नाँहि' भाव स्पष्ट कीजिए।

The answer is :

इसका भाव है कि जब तक मनुष्य के भीतर 'अहम्' (अहंकार) की भावना अथवा अंधकार विद्यमान रहता है, तब तक उसे ईश्वर की प्राप्ति नहीं होती। 'अहम्' के मिटते ही ईश्वर की प्राप्ति हो जाती है, क्योंकि 'अहम्' और 'ईश्वर' दोनों एक स्थान पर नहीं रह सकते। ईश्वर को पाने के लिए उसके प्रति पूर्ण समर्पण आवश्यक है।

Related Posts

Post a comment